Categories
Uncategorized

Zindagi Status

Zindagi Status! Hi friends, I have collected some new Zindagi status. So read it and share it with your friends.

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो,
न जाने किस गली में ज़िन्दगी कि शाम हो जाये।

जिंदगी बहुत हैं शिकवे तुझसे,
रहने दे मगर आज इतवार है।

देख ज़िन्दगी तू हमे रुलाना छोड़ दे,
अगर हम खफा हूऐ तो तूझे छोड़ देंगे।

किसी ने मुझसे कहा,
कि तुम इतने खुश कैसे रह लेते हो?
तो मैंने कहा कि मैंने जिंदगी की गाड़ी से
वो साइड ग्लास ही हटा दिये
जिसमेँ पीछे छूटते रास्ते और
बुराई करते लोग नजर आते थे।

बढती उम्र में इश्क हो तो अचरज नहीं साहिब,
ये जिंदगी फिर से मुस्कुराने की जिद में है।

कुछ दबी हुई आहटें हैं, कुछ मंद मुस्कुराहटे,
कुछ खोये हुये सपने हैं, कुछ अनसुनी आहटे।

कुछ दर्द भरे लम्हे हैं, कुछ सुकून भरे लम्हात,
कुछ थमें हुये तूफां हैं, कुछ मध्यम सी बरसात।

कुछ अनकहे अल्फ़ाज हैं, कुछ ना समझ इशारे,
कुछ उलझने हैं राहो में, कुछ कोशिशे बेहिसाब।

ज़िन्दगी कांटो का सफ़र है,
हौसला इसकी पहचान है,
रास्ते पर तो सभी चलते हैं,
जो रास्ते बनाये वही तो इंसान है।

ज़िन्दगी का अपना रंग है:-
दुःख वाली रात सोया नही जाता,
और ख़ुशी वाली रात सोने नहीं देती।

उदासियों की वजह तो बहुत है जिंदगी में,
पर बे-वजह खुश रहने का मज़ा ही कुछ और है।
इसलिए खुश रहो।

जो उड़ते हैं अहम के आसमानों में,
ज़मीन पर आने में वक़्त नहीं लगता,
हर तरह का वक़्त आता है ज़िंदगी में,
वक़्त के गुज़रने में वक़्त नहीं लगता।

जिंदगी अगर अपने हिसाब से जीनी हैं,
तो कभी किसी के फैन मत बनो।

कदर करना सीख लो,
न जिंदगी बापस आती है, ना लोग।

हर एक चेहरे को ज़ख्मो का आइना न कहो,
ये ज़िन्दगी तो एक रहमत है इसे सजा न कहो,
न जाने कौन सी न्मज्बूरियों का कैदी हो,
वो साथ छोड़ जाए तो बेवफा न कहो।

जिंदगी कब और कैसे बदल रही है,
सब समझ आ रहा है,
पर न कुछ कर पा रहा हूँ,
और न ही कुछ कह पा रहा हूँ।

यूँ तो ए ज़िन्दगी तेरे सफर से शिकायते बहुत थी,
मगर दर्द जब दर्ज कराने पहुँचे तो कतारे बहुत थी।

हम जिंदगी में ज़रा मशरूफ क्या हुए,
लोगो ने तो दिलो से निकाल दिया..!

ऐ जिंदगी ख़त्म कर अब ये तमाशा,
मैं थक गया हूँ दिल को तसल्लियाँ देते देते।

बदल जाती है ज़िन्दगी की सच्चाई ऊस वक़्त,
जब कोई तुम्हारा तुम्हारे सामने तुम्हारा नहीं होता।

ज़िंदगी जीने का मकसद ख़ास होना चाहिए,
और अपने आप में हमेशा विश्वास होना चाहिए,
ज़िंदगी में खुशियों की कमी नहीं है दोस्तो,
बस खुशियों को मनाने का अंदाज़ होना चाहिए।

यह ज़िन्दगी बस सिर्फ पल दो पल है,
जिसमें न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िंदगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सबसे हसीं पल है।

ज़िन्दगी से आप जो भी…
बेहतर से बेहतर ले सकते हो ले लो,
क्यूंकि जब ज़िन्दगी लेने पर आती है,
तो साँसे तक भी ले जाती है।

देखो तो ख्वाब है ज़िन्दगी,
पढ़ो तो किताब है ज़िन्दगी,
सुनो तो ज्ञान है ज़िन्दगी,
पर हमें लगता है कि
हँसते रहो तो आसान है ज़िन्दगी।

ज़िन्दगी एक पल है
जिसमे ना आज है ना कल है,
जी लो इसको इस तरह कि
जो भी आपसे मिले वो यही कहे,
बस यही मेरी ज़िंदगी का हसीन पल है।

#जीवन☝️ में अच्छे दिनों में कभी भी उन #लोगो 👥को ना भूले,
जो बुरे #दिनों में आपके👉 साथ थे !!

कलयुग है #साहिब.🌍
यहाँ #झूठे को स्वीकार💑 किया जाता है और #सच्चे का शिकार⚔ किया जाता हैं !!

#पत्थर में एक ही कमी है🤨 की वो पिगलता🔥 नहीं,
लेकिन यही उसकी #खूबी है🤔 की वो बदलता भी ❌नहीं !!

इतना #आसान नहीं ❌अपने ढंग से ज़िन्दगी जीना,🤧
अपनों को भी #खटकने🔨 लगते है जब हम अपने लिए #जीने😑 लगते हैं !!

जीत 🥇जाओ तो कई अपने #पीछे छुट जाते है,😪
और हार❌ जाओ तो अपने ही #पीछे छोड़ जाते है !!

🗄अलमारी में मिले हुए #बचपन👶 के खिलौने मेरी #आँखों की उदासी😪 देख कर बोले..
तुम्हे ही बहुत #शौक था☝️ बड़े होने का !!

ये साँपो🐍 की बस्ती है, जरा देख👀 कर चल,
यहाँ का हर #शक्स👥 बड़े प्यार से डंंसता😣 हैं !!

जब तलक गुजरेगी गुजार लेंगे,
बाद उसके कंधों पे हमें यार लेंगे.

एक उम्र वो थी कि जादू में भी यक़ीन था,
एक उम्र ये है कि हक़ीक़त पर भी शक़ है….

सीने में दर्द और आँखों में तूफ़ान है इस मतलबी दुनिया में हर कोई परेशान है … !सीने में दर्द और आँखों में तूफ़ान है इस मतलबी दुनिया में हर कोई परेशान है … !

न लौटने की हिम्मत है न सोचने की फुर्सत
बहुत दूर निकल आए हैं हम जिंदगी से.

मत पूछो की किस तरह चल रही है ज़िन्दगी
मैं उस दौर से गुज़र रहा हूँ जो गुज़रता ही नहीं.

कुछ इस तरह सौदा किया वक्त ने मुझसे
तजुर्बे देकर वो मेरी मासूमियत ले गया

ज़िन्दगी में ग़म है,
ग़म में दर्द है,
दर्द में मज़े है,
और मज़े में हम है..

एक उसूल पर गुजारी हैं जिंदगी मैंने..
जिसको अपना माना उसे कभी परखा नहीं ।

इतनी ठोकरे देने के लिए शुक्रिया ए-ज़िन्दगी, चलने का न सही सम्भलने का हुनर तो आ गया ।

मुसीबतों से उभरती है शख्सियत यारो, जो पत्थरों से न उलझे वो आइना क्या है…!!

रस्सी जैसी जिंदगी… तने-तने हालात…..
एक सिरे पे ख़्वाहिशें…
दूजे पे औकात….

जरूरत और चाहत में बहुत फ़र्क है..,
कमबख्त़ इसमे तालमेल बिठाते बिठाते ज़िन्दगी गुज़र जाती है

अगर जिंदगी से प्यार है,
तो
जिंदगी मे कभी प्यार मत करना

जो अंधेरे की तरह डसते रहे
अब उजाले की कसम खाने लगे
चंद मुर्दे बैठकर श्मशान में
ज़िंदगी का अर्थ समझाने लगे

आते है दिन हर किसी के बेहतर
ज़िन्दगी के समुन्दर में हमेशा तूफाँ नही होते

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *